अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग, उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास अभिकरण

अ) राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार (एनईसीए)

राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार, उद्योग एवं अन्य प्रतिष्ठानों में ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ऊर्जा मंत्रालय द्वारा हर साल दिये जाते है। विद्यालय के छात्रों के लिए ऊर्जा संरक्षण वार्षिक चित्रकला प्रतियोगिता के विजेताओं को भी ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाता है।

वार्षिक ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार, उद्योगों, इमारतों, क्षेत्रीय रेलवे, राज्य नामित एजेन्सियों, बीईई स्टार लेबल निर्माताओं, बिजली वितरण कम्पनी, नगर पालिकाओं द्वारा ऊर्जा संरक्षण में नई उपलब्धियों को मान्यता देते है एवं जागरूकता बढ़ाते है कि, ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए भारत की प्रतिक्रिया में ऊर्जा संरक्षण का बड़ा योगदान है। यह पुरस्कार उनकी ऊर्जा संरक्षण एवं दक्षता के लिए उनकी प्रतिबद्धता की पहचान भी है। इस योजना ने ऊर्जा दक्षता के उपायांे को अपनाने के लिए उद्योंग एवं अन्य प्रतिष्ठानों को प्रेरित किया है।

विद्युत बचत परियोजनाओं के कार्यान्वयन के माध्यम से भाग लेने वाली इकाइयों द्वारा विद्युत बचत के समतुल्य विद्युत क्षमता की बढ़ोत्तरी में बचत होती है। एसडीए के रूप में नामंकित होने के उपरान्त यूपीनेडा ने राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार के लिए औद्योगिक एवं वाणिज्यिक इकाइयों की भागीदारी बढ़ाने के लिए पहल की है।

वर्ष 2016 में यूपीएसडीए (यूपीनेडा) द्वारा 06 श्रेणियों में उत्तर प्रदेश राज्य ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार वितरित किये गये।

ब) स्कूल बच्चों के लिए ऊर्जा संरक्षण पर चित्रकारी प्रतियोगिता

ऊर्जा संरक्षण की आदत सबसे अच्छी तरह से स्कूली शिक्षा के दौरान शुरू की जा सकती है। यह देखा गया है कि बच्चे परिवर्तन के सर्वोत्तम एजेंट हैं और इस मामले में हमें, उन्हें ऊर्जा संरक्षण पर जानकारी और ज्ञान से लैस करने और इस महत्वपूर्ण ंिवषय के बारे में उनके बीच रूचि पैदा करने की आवश्यकता है।

इस संबंध में, विद्युत मंत्रालय ने एक पहल की है और वर्ष-2005 के बाद छात्रों के लिए ऊर्जा संरक्षण पर चित्रकला प्रतियागिता का आयोजन किया है। प्रतियोगिता 2005 के बाद से तीन चरणों में होती है, अर्थात स्कूल, राज्य और राष्ट्रीय स्तर इस अभियान को मज़बूत करने के लिए 4,5 और 6 के मौजूदा वर्गो के अतिरिक्त वर्ष 2015 में कक्षा-7,8 एवं 9 का वर्ग भी शामिल किये जा रहा है। श्रेणी ‘ए’ के तहत चौथे, पांचवी और 6 कक्षा के छात्र और ‘बी’ श्रेणी के तहत 7,8 एवं 9 कक्षा के छात्र प्रतियोगिता में भाग लेने के पात्र है।

छात्रों द्वारा तैयार की गई चित्रकारी में ऊर्जा संरक्षण गतिविधियों में उनकी रूचि और ऊर्जा संकट और जलवायु परिवर्तन के बारे में उनकी चिंता परिलक्षित होती है तथा उनके द्वारा बनाए गए चित्रों में उनके प्रभावशाली विचारों केा व्यक्त करते हैं। इन पेटिंग में जीवंत डिज़ाइन, विषय का आत्मविश्वास से चित्रण और उल्लेखनीय संरचना का चित्रण इन युवा छात्रों के मन में विषय-विषयों की स्पष्ट समझ को दर्शाता है।

एसडीए के रूप में नामांकित होने के बाद यूपीनेडा ने ज़िला स्तर के प्रोेजेक्ट ऑफीसर के माध्यम से राज्य में पेंटिंग प्रतियोगिता की शुरूआत की है। और वर्ष 2016 में 25 लाख से अधिक आंकड़े हासिल किये है, जबकि वर्ष 14 में यह आंकड़े केवल 58 हजार तथा वर्ष 2015 में 18 लाख थे। वर्ष 2015 में पेंटिग प्रतियोगिता में प्रतिभागियों की संख्या में सबसे ज्यादा वृद्धि के लिए उत्तर प्रदेश को प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है तथा वर्ष 2016 में सर्वाधिक प्रतिभागिता हेतु प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है।

हिन्दी
twitter Facebook
Back To Top